Ganesha Chaturthi

Ganesha Chaturthi 2023: क्या आप जानते हैं कि गणेश चतुर्थी दस दिनों तक क्यों मनाई जाती है? यहाँ जानिए क्यों

Ganesh Utsav 2023 बप्पा के जन्मदिन पर गणेश चतुर्थी को मनाया जाता है। गणेशोत्सव का पर्व गणेश चतुर्थी से शुरू होता है और अनंत चतुर्दशी को गणेश विसर्जन होता है। 19 सितंबर 2023 से इस वर्ष गणेश चतुर्थी शुरू होगी और 28 सितंबर 2023 को अनंत चतुर्थी पर समाप्त होगी।
नई दिल्ली में आध्यात्मिक डेस्क Ganesha Chaturthi 2023: सनातन धर्म में गणेश एक प्रमुख देवता हैं। गणेशजी को किसी भी शुभ काम से पहले ही पूजा जाती है। यही कारण है कि इन्हें प्रथम पूज्य देव भी कहा जाता है। गणेशजी की पूजा करने से व्यक्ति के सभी काम सफल होते हैं।

Ganesha Chaturthi

गणपति की स्थापना हर साल भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से गाजे बाजे से होती है। 19 सितंबर को देशभर में गणेश चतुर्थी के दिन से 10 दिन तक चलने वाले गणेश उत्सव की शुरुआत होगी। लेकिन आपको पता है कि यह उत्सव दस दिन तक ही क्यों रहता है? आइए जानते हैं क्यों।

गणेश उत्सव के पीछे कई प्रचलित कथाएं हैं। गणेश जी का जन्म शायद भाद्रपद महीने की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को हुआ था। इसलिए यह दिन गणेश चतुर्थी कहलाता है। दूसरी ओर, दस दिनों तक गणेश उत्सव मनाने की कहानी बताती है कि वेद-व्यास ने गणेश से महाभारत लिखने की प्रार्थना की, जिसके जवाब में गणपति १० दिनों तक बिना रुके लिखते रहे। वेद-व्यास ने देखा कि गणेशजी का तापमान बहुत बढ़ा हुआ था, इसलिए उन्हें दसवें दिन नदी में स्नान करवाया। तब से गणेश चतुर्थी की मान्यता है।

कितने दिनों में पूरा कर सकते हैं? विसर्जन गणेशोत्सव दस दिनों तक मनाया जाता है। अनंत चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की मूर्ति को जलाया जाता है। लेकिन आप बप्पा को एक या डेढ़ दिन से लेकर तीन, पांच, सात या दस दिनों तक घर ला सकते हैं अगर आप चाहें। यह भी उतना ही शुभ है जितना कि अनंत चतुर्थी के दिन बप्पा का विसर्जन करना।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *